राफेल और सुखोई 30MKI की जुगलबंदी जानिए कैसे है दुश्मन के लिए बेहद खतरनाक

Medhaj News 28 Jul 20 , 10:01:20 Science & Technology Viewed : 1489 Times
Ed6T6DyUYAE0WFd.jpg

लड़ाकू विमान राफेल (Rafale) की पहली खेप 29 जुलाई को भारत में पहुंच जाएगी। ये विमान फ्रांस (France) से अंबाला आएंगे और यहीं पर आधिकारिक तौर पर इन्हें भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के बेड़े में शामिल किया जाएगा. बालाकोट हमले (Balakot Airstrike) के बाद से भारत में इन विमानों की जरूरत महसूस की जा रही थी। भारत और फ्रांस के संयुक्त युद्धाभ्यास गरुण-6 के बाद तत्कालीन वाइस एयर चीफ आरकेएस भदौरिया (वर्तमान एयर चीफ मार्शल) ने दुश्मनों को सुखोई और राफेल की घातक प्रहार क्षमता को लेकर चेताया था।

जुगलबंदी है जबरदस्त 

तब भदौरिया ने कहा था कि सुखोई और राफेल एक बार साथ में ऑपरेट करना शुरू कर दें फिर किसी भी दुश्मन के लिए ये घातक कॉम्बिनेशन होगा. साल 2016 में राफेल जेट के लिए फ्रांस से हुई बातचीत में आरकेएस भदौरिया भारतीय टीम के हेड थे, उन्‍होंने सुखोई और राफेल के कॉम्बिनेशन को बेहद घातक करार दिया था।

सुखोई 30-MKI की खासियतें

रूस में निर्मित Sukhoi Su-30MKI लड़ाकू विमान इस वक्त भारतीय वायुसेना में सबसे घातक विमान है। ये उड़ान के दौरान ही फ्यूल भर सकता है। इस फाइटर प्लेन में 12 टन तक युद्धक सामग्री लोड की जा सकती है। साथ ही इस विमान में डबल इंजन लगे हुए हैं जो इमरजेंसी की स्थिति में पायलट को मदद करते हैं। सुखोई-30 एमकेआई एक बार में 3,000 किमी की उड़ान भर सकता है। रूस के सहयोग से भारत  द्वारा निर्मित सुखोई-30 एमकेआई को दुनिया के सबसे ताकतवर लड़ाकू विमानों  में एक माना जाता है। 

राफेल विमान की ताकत

राफेल एक फ्रांसीसी कंपनी डैसॉल्ट एविएशन निर्मित दो इंजन वाला मध्यम मल्टी-रोल कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एमएमआरसीए) है। राफेल लड़ाकू विमानों को 'ओमनिरोल' विमानों के रूप में रखा गया है, जो कि युद्ध में अहम रोल निभाने में सक्षम हैं। ये बखूबी सारे काम कर सकती है- वायु वर्चस्व, हवाई हमला, जमीनी समर्थन, भारी हमला और परमाणु प्रतिरोध। कुल मिलाकर राफेल विमानों को वैश्विक स्तर पर सर्वाधिक सक्षम लड़ाकू विमान माना जाता है। इसकी ताकत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि ये छोटे न्यूक्लियर हथियारों को ले जाने में सक्षम हैं। राफेल एयरक्राफ्ट 9500 किलोग्राम भार उठाने में सक्षम है। ये अधिकतम 24500 किलोग्राम वजन के साथ उड़ान भर सकता है। इस फाइटर जेट की अधिकतम रफ्तार 1389 किमी/घंटा है। एक बार में ये जेट 3700 किमी तक का सफर तय कर सकता है।



 


    13
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story