#Boycottchina भारत का पैसा मोबाइल के जरिए जा रहा चीन, प

Medhaj News 5 Aug 20 , 07:29:35 Science & Technology Viewed : 1648 Times
images_(87).jpeg
पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘आत्मनिर्भर भारत’ की बात की। फिर लद्दाख में सीमा पर चीन से तनाव हो गया। 15 जून को हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए। चीनी सेना को भी नुकसान हुआ। जब से सीमा पर तनाव की खबरें सामने आई हैं, तब से चीन के सामान के बहिष्कार की बात हो रही है। चीनी प्रॉडक्ट नहीं खरीदने की अपील की जा रही है। चीनी कंपनियों के ही बनाए स्मार्टफोन से चीनी सामान के बहिष्कार की बात हो रही है। अब पाकिस्तान ने पूरे जम्मू कश्मीर को और साथ ही जूनागढ़ को अपने देश के नक्शे पर दिखाया है ।इससे भारत और चीन पाकिस्तान के बीच मामला बिगड़ सकता है और हालात गंभीर हो सकते हैं। भारत इसे ऐसे ही नहीं देखता रहेगा इस पर कार्यवाही करेगा और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देगा।
इस खबर में हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि ऐसे समय में जब ‘बॉयकॉट चाइनीज प्रॉडक्ट्स’ के ट्रेंड्स चल रहे हैं, मोबाइल फोन से कैम्पेन लॉन्च किए जा रहे हैं, भारतीय बाजार में चीन के स्मार्टफोन की हिस्सेदारी कितनी है। ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बनने वाले कल-पुर्जे कहां से आते हैं। एपल जैसे ब्रांड के फोन की मैन्युफैक्चरिंग कहां होती है? स्मार्टफोन मार्केट में भारतीय कंपनियां कहां खड़ी हैं?
रिसर्च फर्म काउंटरपॉइंट की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 की पहली तिमाही यानी जनवरी से मार्च के बीच भारतीय स्मार्टफोन मार्केट में चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 70% से भी ज्यादा है। कहने का मतलब है कि 100 में 70 लोगों के पास चीन के स्मार्टफोन हैं। देश के टॉप-5 स्मार्टफोन ब्रांड में से चार चीन के हैं। सबसे ज्यादा 30% मार्केट शेयर शाओमी का है। दूसरे नंबर पर 17% मार्केट शेयर के साथ वीवो है। टॉप-5 में सिर्फ सैमसंग है, जो कि दक्षिण कोरियाई कंपनी है। सैमसंग का मार्केट शेयर भारत में 16% है। भारत का स्मार्टफोन मार्केट करीब दो लाख करोड़ रुपए का है। इसमें से ज्यादातर शेयर चीनी कंपनियों का है।
साल 2019 में भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़कर दुनिया में दूसरे सबसे बड़े स्मार्टफोन बाजार का दर्जा हासिल किया था। काउंटरपॉइंट रिसर्च के मुताबिक, भारत के बाजार में 15.8 करोड़ स्मार्टफोन में से करीब 72 फीसदी या 11.4 करोड़ स्मार्टफोन चीन के बने हैं। साल 2019 में शाओमी ने भारत में सबसे ज्यादा 4.36 करोड़ स्मार्टफोन बेचे, जो कि किसी मोबाइल ब्रांड का एक साल में सबसे ज्यादा बिक्री का रिकॉर्ड है। पिछले साल शाओमी की बिक्री 9.2 फीसदी और बाजार में हिस्सेदारी 28.6 फीसदी बढ़ी है।
मेड इन इंडिया कौन की बात करें तो यह है कुछ बेहतरीन फोन जो आप खरीद सकते हैं
Samsung
सैमसंग की बात करें तो दक्षिण कोरियाई इस कंपनी की भारत में एक ही फैक्ट्री है जो कि नोएडा में है और दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल प्रोडक्शन फैक्ट्री है जिसकी उत्पादन क्षमता करोड़ों में है। अपनी इस फैक्ट्री को लेकर सैमसंग ने हर महीने एक करोड़ मोबाइल प्रोडक्शन का दावा किया है। इस फैक्ट्री में Galaxy Note 10/ Note 10+,Galaxy S10/ S10e/ S10+,Galaxy M01,Galaxy M11,Galaxy M21,Galaxy M31,Galaxy M30s,Galaxy M30,Galaxy A21s,Galaxy A31,Galaxy A51,Galaxy A71,Galaxy A70s,Galaxy A50s,Galaxy A30s,Galaxy A20s,Galaxy A10s,Galaxy A80,Galaxy A50,Galaxy A2 Core जैसे फोन तैयार होते हैं जबकि Galaxy Note 10 Lite,Galaxy S10 Lite,Galaxy S20/ 20+/ S20 Ultra,Galaxy Fold,
Galaxy Z Flip बाहर से आते हैं।
Motorola
मोटोरोला -के कुछ फोन का प्रोडक्शन भारत में होता है। कंपनी तमिलनाडु में है। भारत में मोटोरोला के Razr 2019,One Fusion+,One Vision, One Action,One Macro,G8 Power Lite,G8 Plus,E6s जैसे फोन का प्रोडक्शन होता है।
Nokia
नोकिया के फोन की बिक्री और उत्पादन एचएमडी ग्लोबल करती है। नोकिया के Nokia 7.2,Nokia 7.1,Nokia 6.2,Nokia 5.3,Nokia 3.2,Nokia 2.3 मेड इन इंडिया हैं Micromax और Lava
माइक्रोमैक्स की फैक्ट्री उत्तराखंड में और लावा की उत्तर प्रदेश में है। माइक्रोमैक्स ने पिछले 12 महीनों में कोई फोन लॉन्च नहीं किया है। लावा के फोन भारत में ही बनते हैं। इंटेक्स के फोन का प्रोडक्शन बंद हो गया है। प्रोडक्शन आंध्र प्रदेश में हुआ है।

    17
    0

    Comments

    Leave a comment



    Similar Post You May Like

    Trends

    Special Story